kuchhkhhash

Just another weblog

33 Posts

566 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3598 postid : 1219492

क्यों परेशान !

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~
पहाड़ों से ऊँचे अरमान
वक़्त मुट्ठी भर रेत सी ,
स्वप्नों ने डेरा डाला ऐसे
आँखों को कुछ दिखता नहीं !
~~~~~~~~~~~~~~~

व्यथित मन क्लांत तन
क्षण भर को विश्राम नहीं
भयंकर मंजर दिखता अब
इंसानियत लहूलुहान पड़ी !
~~~~~~~~~~~~~~~

स्वर्णिम मृग भगाता रहा
पकड़ में कभी आया नहीं,
आकाँक्षाओं के मरुथल में
शाद्वल कभी दिखा नहीं !
~~~~~~~~~~~~~~~

थम जाओ तो पल भर को
एक क्षण को सोचो जरा,
क्या खोया क्या पाया तूने
वक़्त का पंछी उड़ने चला !
~~~~~~~~~~~~~~~~

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
July 31, 2016

प्रशंसनीय कविता । अभिनंदन ।


topic of the week



latest from jagran