kuchhkhhash

Just another weblog

33 Posts

566 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 3598 postid : 848821

वाह मोफलर मेन !

Posted On: 9 Feb, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Hope[1]

..फिर से
उस नए शुरुआत की
शुरुआत होनी है अभी
अधूरे उन उम्मीदों से
मुलाक़ात होनी है अभी !

सलाम एक आम आदमी को
सपने बंधाये जिसने ख़ास
क्या खोया क्या पाया हमने
सब हिसाब होना है अभी !

बुझी बुझी सी नजरों में
उम्मीद का सूरज जगा है
संघर्ष पथ के उस पथिक से
अनथक बात होनी है अभी !

बुझी हुई राख में सुलगती
इस चिंगारी को न बुझने देना
वादों पर यकीं किया हमने
इम्तेहा आपका होना है अभी !

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

skjaiswalskj के द्वारा
February 9, 2015

nice one :)


topic of the week



latest from jagran